इलायची की खेती

इलाइची की खेती | इलाइची की खेती से बने आत्मनिर्भर 2021

शेयर करें

परिचय

इलाइची के बीज में उपस्थित तेल और फली का उपयोग इत्र और उत्तेजक के रूप में किया जाता है, भारत में इलाइची की खेती बहुत ही व्यापक रूप से किया जाता है | भारत इलाइची के उत्पादन में दुनिया में दुसरे स्थान में आता है, यहाँ इलाइची के उत्पादन का 90% उपयोग भारत देश में ही होता है और कुल उत्पादन का 5-8% को अन्य देशो में निर्यात किया जाता है |

छोटी इलाइची (Elettaria इलायची) Zingiberaceae परिवार के अंतर्गत आता है इलाइची को “मसालों की रानी” कहा जाता है, यह दुनिया की तीसरी सबसे महँगा मसाला है जिसका उपयोग सब्जिओं में मसाले के रूप में किया जाता है और साथ ही दवाई एवं कन्फेक्शनरी में भी इलाइची का प्रयोग किया जाता है|

भारत भी मूल्यवर्धित प्रीमियम ग्रेड इलाइची के उत्पादों जैसे इलाइची, इलाइची का तेल जिसे यूरोपीय देशो, सऊदी अरब, जापान, मलेशिया, यू.के. आदि में निर्यात किया जाता है | सऊदी अरब और जापान के बाद भारत इलाइची के सबसे बड़े बाजार में आता है |

केरल में इलाइची की कृषि के लिए जलवायु एवं परिस्थितियां उच्च जैविक गतिविधियों के लिए बहुत ही अनुकूल है वहां के खेतो का त्वरित अपघटन इस तरह के कृषि-पारिस्थितिकी तंत्र को स्थानांतरित करना व्यावसायिक पैमाने पर जैविक खेती करने के लिए फायदेमंद है संयोग से, प्रत्यायन एजेंसियों के कई(कमोडिटी बोर्ड) का मुख्यालय केरल में है |

इसके अलावा, कई अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त गैर सरकारी संगठन केरल में जैविक खेती के लिए काम करने वाले लंबे समय से सक्रिय हैं, मसालों का घर होने के कारण भारत में केरल का संगठित रूप से उत्पादित निर्यात में एक बड़ी हिस्सेदारी है, विश्व बैंक ने संयुक्त रूप से भारत और अंतर्राष्ट्रीय मसालों के बोर्ड के साथ व्यापर केंद्र, जिनेवा इलाइची की जैविक खेती और संवर्धन के लिये कार्यक्रम लागू कर रहा है |

मसालों का उत्पादन (इलाइची सहित), चयनित मसालों का प्रमाणीकरण और निर्यात इडुक्की में और वनाड जिले जिले में होता है इसके अलावा मसालों की जैविक खेती को बढ़ावा देने के लिए स्पाइस बोर्ड कोचीन अनुदान सहायता कार्यक्रम लागू कर रहा है |

भारत में इलायची का राज्य-वर क्षेत्र और उत्पादन

इलाइची की बीज इलाइची की खेती
इलाइची
क्रमांकराज्यक्षेत्र (हेक्टेयर)उत्पादन (टन)
1केरल413679765
2कर्नाटक271731775
3तमिलनाडु52551000
 कुल7379512540

केरल देश में इलाइची का प्रमुख उत्पादन राज्य है जो कुल उत्पदन का 78% करता है |

इलाइची की जैविक खेती

इलाइची को भारत के पश्चिमी घाटों में उगाया जाता है, जो दुनिया के 26 वें जैव विविधता वाला गर्म स्थान है, हालाँकि खेती को अधिक लाभदायक बनाने के लिए अंधाधुध रासायनिक उर्वरक और कीटनाशक का प्रयोग किया जा रहा है जिससे इलाइची की गुणवत्ता कम हो जाती है |

भारत में इलाइची के सतत उत्पादन में कमी के कुछ और भी कारक है जैसे मृदा की उर्वरता में कमी, माइक्रो-क्लाइमेट, पोषक तत्व, फसल चक्र ना अपनाना अतः इलाइची की जैविक खेती करके गुणवत्ता में सुधार और उत्पादन में वृद्धि लाया जा सकता है |

  • छोटी इलायची (इलेटेरिया इलायची) गर्म आर्द्र जलवायु वाले क्षेत्रों में अच्छी तरह पनपती है |
  • जहाँ वार्षिक वर्षा 1500-4000MM हो तथा तापमान 18-28 डिग्री सेंटीग्रेट और समुद्र ताल से ऊंचाई 600-1200 मीटर हो |
  • फसल के फुल और विकास के लिए 40-60% छाया की आवश्यकता होती है |
  • ये भरी हवा का सामना नही कर सकते |
  • यह अपना पोषक तत्व जमीन से लेता है इसके लिए शुष्क अवधी के दौरान जमीन में नमी रहना आवश्यक है |
  • इलाइची को दोमट मिटटी की आवश्यकता होती है |
  • भूमि का PH मान 4.2 से 6.8 तक होना चाहिए |
  • संतुलित मात्रा में नाइट्रोजन, फास्फोरस और पोटेशियम का उपयोग करना चाहिए |
  • जहाँ जल निकासी की उचित व्यवस्था हो वहां इलाइची की खेती अच्छी तरह से की जा सकती है |

इलाइची की किस्मे

इलाइची की किस्मे
इलाइची की किस्मे

केरल में परम्परागत किस्मे जैसे मालाबार, मैसूर तथा वज्हुक्का का उत्पादन किया जाता है, मालाबार कि किस्म 600-1200 मीटर समुद्र तल से उंचाई में उगाया जा सकता है एवं मैसूर\वजहुक्का किस्म को 900-1200 मीटर समुद्र तल की ऊंचाई में इसकी खेती की जा सकती है अनेक अधिक उपज देने वाली किस्में जैसे ICRI-1, ICRI-2, PV-1 और PV-2 और चयन जैसे “नजल्लानी” आमतौर पर केरल में उगाए जाते हैं |

इलाइची की खेती के लिए भूमि की तैयारी

सबसे पहले जमीन से जंगल के पौधों, झाड़ियो और पेड़ो को साफ़ कर देना चाहिए तथा सीढ़ी नुमा खेती और खेत को समतल किया जाना चाहिए और आवश्यक दुरी पर ढलान बनाना चाहिए 60 x 60 x 35 सेमी से 90 x 90 x 45 सेमी के गड्ढे गर्मी के महीनों और शीर्ष के दौरान तैयार किए जाते हैं रोपण के समय रिफिलिंग के लिए अलग से रखा जाता है। गड्ढे का लगभग 1/3 भाग भरना चाहिए शीर्ष मिट्टी के साथ और बाकी 1: 3 जैविक खाद और शीर्ष मिट्टी के साथ मिलाना चाहिए |

फसल को बीज और प्रकंद के माध्यम से प्रचारित किया जाता है केरल में किसान वानस्पतिक बीज उपचार की ओर ध्यान दे रहे है |

इलाइची की खेती में पौधरोपण

मैसूर और वाज़ुक्का के लिए अनुशंसित दुरी 2 X 2 X 3 X 2 मीटर और मालाबार के लिए मिट्टी की किस्म जैसे स्थानीय परिस्थितियों के आधार पर, यह 1.5 मीटर X 1.5 मीटर से 2 मीटर X 2 मीटर रखनी चाहिए रोपण के तुरंत बाद पौधे के आधार में उर्वरक, पत्ती के कूड़े को मिलाया जाता है जिससे मिटटी के कटाव को रोका जा सके साथ ही इसके कारण भूमि में नमी भी रहती है ढलान के कटाव को नियंत्रित रखने के लिए तिरछे ढंग से रोपण किया जाना चाहिए |

पलवार

जड़ प्रसार को बढ़ाने के लिए मिट्टी को 90 सेमी के आधार रेखा के आसपास 9-12 सेमी की गहराई तक खोदा जाना चाहिए, दिसंबर और फ़रवरी के दौरान पौधे के आधार के चारों ओर मिटटी से ढक देना चाहिए ताकि प्रकंद मूल का विकास हो सके जड़ को बढ़ाने तथा नमी के संरक्षण तथा तापमान के नियंत्रण हेतु पलवार करना चाहिए |

इलाइची की खेती के लिए पोषक तत्व प्रबंधन

जैविक खाद मिटटी की भौतिक विशेषताओं को बेहतर बनाने के अलावा पोषक तत्व की आपूर्ति भी करता है नीम केक / अस्थि भोजन / वर्मीकम्पोस्ट जैसे जैविक खादों का अनुप्रयोग 1.1, 1.5 तथा 1.75 टन प्रति हेक्टेयर के हिसाब से डालना चाहिए जैविक खाद डालने के पश्चात् खाद को अच्छी तरह से मिटटी से ढक देना चाहिए

सितम्बर के बाद उचित मृदा परिक्षण के पश्चात् जैविक खाद का उपयोग करना चाहिए | भारतीय इलायची अनुसंधान संस्थान मायलाडुम्परा, इडुक्की में मृदा परीक्षण सुविधाएं उपलब्ध हैं | उर्वरकों और रसायनों के अवशेषों से बचने के लिए इनके उपयोग की सावधानी बरतनी चाहिए ताकि जैविक खाद के उच्च गुणवत्ता वाली उत्पाद प्राप्त हो सके |

इलाइची की सफल खेती के लिए सिंचाई

इलाइची की खेती से फायदे
इलाइची के फायदे

इलाइची को नियमित रूप से पानी की आवश्यकता होती है खासकर के गर्मी के दिनों में और साथ ही जब फसल में फुल आना चालू हो उस समय पानी की आवश्यकता अधिक होती है जो फल को प्रतिकूल प्रभाव डालता है आमतौर पर केरल में जनवरी से मई तक सिंचाई की आवश्यकता होती है इसलिए, सूखा प्रभावित क्षेत्रों में, जल संरक्षण के उपाय यानी खेत तालाब, चेक डैम, जल संग्रह खाइयों आदि से जल संरक्षण करना चाहिए |

इलाइची में अच्छे से सिंचाई के लिए ड्रिप और स्प्रिंकलर जैसे तरीको को अपनाना चाहिए छोटे किसान (संसाधन गरीब किसान) पानी के उपयोग को बढ़ाने के लिए घड़े की सिंचाई या जल संरक्षण के तरीकों को अपना सकते हैं ड्रिप सिंचाई के मामले में, प्रति दिन 4-6 लीटर प्रति क्लंप की दर से पानी दिया जाना चाहिए |

छाया का उपयोग

सीधी धूप इलायची की वृद्धि और विकास के लिए हानिकारक है, आमतौर पर उगाए गए छायादार पेड़ की प्रजातियाँ जैसे करुणा (वर्नोनिया आर्बोरिया) कोरंगती, चंदना वंबु (सीड्रेला टोना), नजावल (सिज़ेगियम क्यूमिनी) वृक्ष आदि इलाइची को छाया प्रदान करने के लिए उगाये जाते है वांछित छाया आवश्यकता के लिए “पहलुओं / ढलान दिशा” को ध्यान में रखते हुए प्रबंधित किया जाना चाहिए दक्षिण-पश्चिमी ढलान उत्तर की तुलना में अधिक छाया प्रदान की जानी चाहिए |

इलाइची की खेती में खरपतवार नियंत्रण

विशेष रूप से विकास के प्रारंभिक चरणों के दौरान खरपतवार पानी और पोषक तत्वों के लिए इलायची के साथ प्रतिस्पर्धा करते हैं और इस तरह झुरमुट के विकास को प्रभावित करते हैं सामान्य तौर पर, दो या तीन हाथ के चारों ओर निराई द्वि-मासिक अंतराल पर संयंत्र आधार की सिफारिश की जाती है

ढलान क्षेत्रों में कुदाल या यांत्रिक साधनों की मदद से निराई की नहीं करनी चाहिए क्योंकि इससे मिटटी के क्षरण होने की सम्भावना बढ़ जाती है |

कूडो की सफाई

खेतो में उपस्थित सूखे पत्तो तथा पौधों को खेत से हटा देना चाहिए इस प्रक्रिया को साल में एक बार फसल की कटाई के एक महीने बाद की जानी चाहिए कचरा सामग्री का उपयोग गीली घास के रूप में भी किया जा सकता है |

इलाइची की खेती में किट प्रबंधन

इलाइची के प्रमुख किट थ्रिप्स, शूट, पैनल, कैप्सूल बोरर तथा रूट ग्रब है |

मछली का तेल कीटनाशक साबुन (एफओआईएस), सोडियम (2.5%) और 2.5% तंबाकू का अर्क थ्रिप की क्षति को कम किया जा सकता है | रूट ग्रब मेनस को यांत्रिक और जैव पदार्थों के विवेक पूर्ण एकीकरण द्वारा प्रबंधित किया जा सकता है, जैसे कि एंटोमोपैथोजेनिक कवक ब्यूवेरिया बेसियाना (बीटल के लिए) और मेट्रिहिज़ियम anisopliae और एंटोमोपैथोजेनिक नेमाटोड Heterorhabditis sp। वीटेक्स नेगुंडो, लैंटाना कैमारा, स्पैथोडिया कैम्पैन्यूलेट और क्रिसेंटहेम में कीटनाशक गुण होते हैं | सफेद मक्खी की आबादी को बहुत कम स्तर पर पैरासिटोइड्स एनकार्सिया सेप्टेंटरियलिस द्वारा बनाए रखा जा सकता है |

रोग प्रबंधन

लीफ स्पॉट, लीफ रॉट और कॉलर रॉट (नर्सरी में), क्लंप रोट, कैटे (वायरस ट्रांसमिटेड) जैसे रोग एफिड द्वारा) इलायची के बागानों में आम हैं, उचित जल निकासी और क्षेत्र की स्वच्छता बीमारियों को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक है। खरपतवार के पौधे, जो वैक्टर के लिए वैकल्पिक मेजबान हैं, नियंत्रित होना चाहिए, कवक रोग के खिलाफ जैव-एजेंट ट्राइकोडर्मा प्रजातियों का प्रयोग प्रभावी पाया गया है |

कटाई

सामान्य तौर पर, इलायची 2-3 साल बाद उपज देने लगती है और उपज 4 साल बाद स्थिर हो जाती है, रिपोर्ट के आधार से पता चला है सुखी इलाइची 120 किलोग्राम/हेक्टेयर पहले वर्ष में, तथा दुसरे वर्ष में 360 किलोग्राम/हेक्टेयर तथा 510 किलोग्राम/हेक्टेयर का उत्पादन होता है वर्तमान मॉडल में एक स्थिर उपज की 7 वें वर्ष से 400 किलोग्राम / हेक्टेयर माना गया है। समय पर कटाई और वैज्ञानिक पोस्ट फसल संचालन उपज की गुणवत्ता को प्रभावित करने वाले कारक हैं |


शेयर करें

headdead05@gmail.com

नमस्ते किसान भाइयो, मेरा नाम अनिल है और मै इस वेबसाइट का लेखक और साथ ही साथ सह-संस्थापक भी हूँ, Education की बात करें तो मै graduate हूँ, मुझे किसानो और ग्रामीणों की मदद करना अच्छा लगता है इसलिए मैंने आप लोगो की मदद के लिये इस वेबसाइट का आरम्भ किया है आप हमे सहयोग देते रहिये हम आपके लिए नयी-नयी जानकारी लाते रहेंगे | #DIGITAL INDIA

View all posts by headdead05@gmail.com →